प्रधानमंत्री की शक्तियां क्या होती हैं, राष्ट्रपति की शक्तियां क्या होती है, सुप्रीम कोर्ट की शक्तियां क्या होती है

what is the power of prime minister, what is the power of president, what is the power of supreme Court

प्रधानमंत्री की शक्तियां क्या होती हैं, राष्ट्रपति की शक्तियां क्या होती है, सुप्रीम कोर्ट की शक्तियां क्या होती है – दोस्तों भारत देश के संचालन में तीन व्यक्ति सबसे बड़ी भूमिका निभाते हैं एक राष्ट्रपति एक प्रधानमंत्री और एक सुप्रीम कोर्ट जितना पावर इन जितना पावर इन तीनों के पास होता है उतना पावर इंडिया में किसी दूसरे के पास बिल्कुल नहीं होता है देश के अंदर इनसे ऊपर कोई नहीं आता है बड़े से बड़े फैसले और अधिकार उनके पास ही होते हैं लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि इन तीनों के पावर क्या-क्या होते हैं कौन बड़ा कौन छोटा होता है और प्रधानमंत्री राष्ट्रपति और सुप्रीम कोर्ट के मजिस्ट्रेट की सैलरी और सुविधा क्या-क्या होती है तो चलिए हम आपको हम आपको इनके बारे में डिटेल में जानकारी देते हैं जिसके लिए वीडियो क्लिक करके पूरी देखिएगा,

राष्ट्रपति की शक्तियां और सुविधा, the power and facilities of president

जैसे कि आपको मालूम होगा भारत का सर्वोच्च नागरिक राष्ट्रपति होता है और सर्वोच्च पद भी होता है जो कि प्रधानमंत्री से पहले आता है, पहले बात करते हैं इनको मिलने वाली सुविधाओं की जैसे कि वर्तमान में भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू है तो इनको भारत सरकार की तरफ से ₹500000 की सैलरी और दिल्ली में स्थित राष्ट्रपति भवन दिया जाता है जो कि जब तक यह अपने पद पर रहते हैं तब तक उस भवन के मैं निवास करते हैं इसके अलावा कहीं पर भी आने-जाने के लिए गाड़ियों का काफिला और उनकी सुरक्षा के लिए एक से बढ़कर एक गण मन 24 घंटे उनकी सुविधा सुरक्षा में तैनात रहते हैं, एक राष्ट्रपति की पावर की बात करें तो सिग्नेचर और फाइनल मोर के बिना संसद में कोई भी फैसला नहीं दिया जाता है हर तरह से विचार विमर्श करने के बाद काम करने के लिए उनकी मोर लगवाई जाती है, और संविधान के द्वारा अनुच्छेद 72 के द्वारा यह भारत के किसी भी व्यक्ति की सजा माफ या कम कर सकते हैं अगर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा किसी व्यक्ति को फांसी की सजा भी सुनाई गई हो तब भी उसको राष्ट्रपति रोक सकते हैं यह पावर केबल राष्ट्रपति के पास ही होता है, इसके अलावा संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति किसी भी राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा सकते हैं और संविधान के अनुच्छेद 352 के द्वारा देश में इमरजेंसी लगा सकते हैं, और वैसे संविधान के हिसाब से जो व्यक्ति राष्ट्रपति के पद पर होता है उसके पास देश के प्रधानमंत्री से भी ज्यादा अधिकार और शक्तियां होती है,

प्रधानमंत्री की शक्तियां क्या होती हैं, what is the power of prime minister

वैसे तो देश का सर्वोच्च राष्ट्रपति का होता है लेकिन फिर भी सभी लोग भारत में प्रधानमंत्री को सबसे ऊंचा मानते हैं और वही किसी भी काम और फैसला को लेकर सबसे ज्यादा सुर्खियों में रहते हैं, और अगर भारत के प्रधानमंत्री के पावर की बात करें तो कई सारे होते हैं जैसे कि उनके मंत्रिमंडल में कौन से व्यक्ति को कौन सा पद देना है इस बात की सूची प्रधानमंत्री के द्वारा ही राष्ट्रपति को दी जाती है उसके बाद मंत्रिमंडल कंप्लीट होता है और देश के प्रधानमंत्री के कंट्रोल में देश के फोर्सज आर्मी वगैरा होते हैं, इसके अलावा अपने देश के बाहर किसी भी दूसरे देश से कोई व्यापार करना किसी तरह के समान का आदान-प्रदान करना लेनदेन करना दूसरे देशों से किस तरह का संबंध बनाना सारा कार्य प्रधानमंत्री के अंदर में आता है, इसके अलावा देश के सबसे बड़े अधिकारियों के पद जैसे इलेक्शन कमिश्नर फाइनेंस कमिश्नर यूपीएससी के प्रेसिडेंट इन सब के पद की अपॉइंटमेंट की सलाह प्रधानमंत्री के द्वारा राष्ट्रपति को दी जाती है, इसके अलावा प्रधानमंत्री को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में बात करें तो प्रधानमंत्री को दुनिया की सबसे सिक्योरिटी एसपी कमांडो के द्वारा दी जाती है जो कि देश में सबसे पावरफुल सिक्योरिटी होती है और उनका निवास करने के लिए दिल्ली में स्थित प्रधानमंत्री आवास दिया जाता है, इसके अलावा एक प्रधानमंत्री की सैलरी ढाई लाख से ₹300000 तक होती है और उनके जीवन यापन करने के सारे खर्चे भारत सरकार के द्वारा दिए जाते हैं और कहीं भी आने-जाने के लिए गाड़ियों का काफिला और एसपीजी सिक्योरिटी के अलावा और भी कई सारे सोल्जर उनके सिक्योरिटी करते हैं,

what is the power of supreme Court

what is the power of supreme Court – जैसे कि जिला अदालत हो या बड़ी अदालत सबको न्याय का घर कहा जाता है और सुप्रीम कोर्ट तो देश में सबसे ऊपर आता है जो कि किसी भी राज्य के उच्च न्यायालय के फैसलों को पलट सकता है और सुप्रीम कोर्ट में किसी भी बड़े से बड़े पद के व्यक्ति के ऊपर कैसे किया जा सकता है जैसे कि कई बार देखने को मिलता है कि सुप्रीम कोर्ट में अपोजिशन पार्टी के लोग उसे पार्टी के खिलाफ भी केस दाखिल करते हैं जिसकी वर्तमान में सत्ता होती है और सुप्रीम कोर्ट एविडेंस के तौर पर देश में किसी भी पद पर तैनात व्यक्ति के खिलाफ कोई फैसला सुना सकता है, फिर चाहे वह किसी राज्य के मुख्यमंत्री केंद्रीय मंत्री या फिर सत्ताधारी सरकार के प्रधानमंत्री क्यों ना हो, सुप्रीम कोर्ट को ही अधिकार भारत के संविधान के द्वारा दिया जाता है सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश के अलावा छोटे-बड़े टोटल 35 न्यायाधीश होते हैं,

Disclaimer

तो आपको इस आर्टिकल को पढ़कर मालूम पड़ गया होगा कि देश के तीन सबसे बड़े पद राष्ट्रपति प्रधानमंत्री और सुप्रीम कोर्ट के पास क्या-क्या शक्तियां और अधिकार होते हैं जिनके हिसाब से आप अंदाजा लगा सकते हो कि इनमें कौन कितना शक्तिशाली पद होता है

Leave a Comment