भारतीय जनता पार्टी की स्थापना कब हुई, BJP establishment date

जो भारतीय जनता पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है और जिसके रजिस्टर्ड कार्यकर्ता 18 करोड़ से ऊपर है उस भारतीय जनता पार्टी की स्थापना किसने की, किसके द्वारा की गई, बीजेपी की स्थापना की डेट क्या है,

भारतीय जनता पार्टी की स्थापना कब हुई – आज से करीब 72 साल पहले 1951 में डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने RSS की सहायता से भारतीय जन संघ की स्थापना की थी, श्यामा प्रसाद मुखर्जी इससे पहले पंडित नेहरू के कार्यकाल में कैबिनेट में मिनिस्टर थे लेकिन बाद में उन्होंने इस्तीफा दे दिया था और यह पार्टी बनाई थी भारतीय जनसंघ पार्टी ये पार्टी बनाने का इनका मकसद केवल इतना था कि स्वतंत्र भारत में हिंदुओं के आध्यात्मिक भावनाओ की रक्षा करना और कांग्रेस पार्टी , और नेहरू जी के द्वारा मुसलमानों के लिए बनाई गई प्राइवेट पॉलिसीज का विरोध करना, शुरुआत में यह पार्टी नई थी और बहुत छोटी थी तो 1952 के चुनाव में केवल तीन ही सीट जीत पाई उस टाइम पर पूरे देश में केवल कांग्रेस पहली पार्टी थी और बहुत बड़ी पार्टी थी तो उसका ही दबदबा था फिर धीरे-धीरे भारतीय जनसंघ पार्टी मजबूत हो रही थी लेकिन 1953 में श्यामा प्रसाद जी की मृत्यु हो जाती है और पार्टी कमजोर हो जाती है, उसके बाद में पार्टी की कमान पंडित दीनदयाल उपाध्यक्ष ने संभाली और वह पार्टी के प्रधान बनाए गए, धीरे-धीरे करके यह पार्टी मजबूत होने लगी और 1967 के चुनाव में इस पार्टी ने टोटल 35 सीट जीती जिससे कि यह देश में तीसरी बड़ी पार्टी बन गई,

और इसके साथ ही ऐसी कई छोटी-छोटी पार्टिया जिनका समर्थन कांग्रेस को नहीं था उनके साथ भारतीय जनसंघ ने मिलकर गठबंधन करके मध्य प्रदेश बिहार और उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई, इसके साथ-साथ ही अटल बिहारी वाजपेई और लालकृष्ण आडवाणी भी भारतीय जनसंख्या एक बड़ा चेहरा बन चुके थे और 1967 के बाद अटल बिहारी वाजपेई ने भारतीय जन सख की कमान संभाली और अध्यक्ष बने और 1972 के बाद लालकृष्ण आडवाणी अध्यक्ष बने और चलते टाइम के साथ भारतीय जनसंघ और ज्यादा मजबूत पार्टी बन रही थी फिर बाद में 1975 के टाइम पर इंदिरा गांधी जी के द्वारा देश में इमरजेंसी लगा दी गई जिसका विरोध भारतीय जनसंघ और उसके साथ जो जो पार्टी थी सब ने किया उसमें की कांग्रेस के द्वारा भारतीय जन सघ के कई सारे हजारों कार्यकर्ता को जेल में डलवा दिया गया फिर 1977 में इमरजेंसी को पूरी तरह हटाकर इलेक्शन करवाने का ऐलान कर दिया गया,

उसके बाद में भारतीय जनसंघ ने देश की ओर छोटी-छोटी पार्टी है जैसे भारतीय लोक दल पार्टी, सोशलिस्ट पार्टी ,और भी कई के साथ मिलकर जनता पार्टी बनाई गई, इन सारी पार्टियों क लक्ष्य केवल यह था कि उस टाइम सत्ता में चल रही कांग्रेस पार्टी को सत्ता से बेदखल करना और फिर 1977 के बाद जब चुनाव का परिणाम आया तो सबसे पहली बार कांग्रेस पार्टी चुनाव हार गई थी और जनता पार्टी और उसकी सारी समर्थन पार्टी चुनाव जीत गई थी और सबसे पहली बार देश में कोई गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री जनता पार्टी की तरफ से मोरारजी देसाई को बनाया गया था, और यह सब पॉसिबल हो पाया था जनता पार्टी के साथ और भी देश की कई सारी पार्टिया खड़ी हुई थी उनके समर्थन में आ गई थी इसलिए, जिसके कारण कांग्रेस को हरा पाए थे लेकिन जीती सीटों में सबसे बड़ा हिस्सा भारतीय जन संघ पार्टी का ही था, लेकिन बाद में इन मिली जुली पार्टियों मे कुछ ऐसा हुआ की जनता पार्टी से एक बड़ा घटक दल अलग हो गया और उनकी बनी बनाई सरकार गिर गई इसके बाद 1980 में दोबारा चुनाव करवाने पड़े और उस चुनाव में जनता पार्टी की बुरी तरह हार हुई जिसमें केवल 31 सीट हासिल कर पाई,

फिर अपनी हार की समीक्षा करने के लिए जनता पार्टी और उनके समर्थन में जो पार्टी बची थी वह सब आपस मे मीटिंग करती हैं और उसमे उसमें भी कई सारी पार्टी जनता पार्टी को छोड़कर केवल RSS ज्वाइन कर लेती है ऐसे में शुरुआत में जो भारतीय जन संघ पार्टी के मेन लीडर थे अटल बिहारी वाजपेई और लालकृष्ण आडवाणी के द्वारा जनता पार्टी का दोबारा पुनर्गठन करके उसमें बदलाव करके 1 अप्रैल 1980 को भारतीय जनता पार्टी की स्थापना की जाती हैं, और भारतीय जनता पार्टी के प्रथम अध्यक्ष अटल बिहारी वाजपेई बनते हैं और उनकी पार्टी के द्वारा सबसे पहले प्रधानमंत्री भी वही बनते हैं ,मतलब की जो आज के टाइम में दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है जिसके टोटल रजिस्टर्ड कार्यकर्ता 20 करोड़ से ऊपर है उस भारतीय जनता पार्टी इसकी स्थापना 1 अप्रैल 1980 को ही हुई थी, जो कि अटल बिहारी वाजपेई और लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में की गई थी,

Leave a Comment