Kargil vijay divas ka itihas – मातृभूमि के लिए शहीद हुए वीर सपूतों के सम्मान में मनाया जाता है

Kargil vijay divas ka itihas – कारगिल युद्ध के रूप में जानने वाली यह लड़ाई सन 1999 में जम्मू कश्मीर के कारगिल जिले में हुई थी, कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर पाकिस्तान के सैनिकों ने कब्जा कर लिया था कहा जाता है कि उस टाइम के पाकिस्तान सेना के प्रमुख परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तान सरकार को सूचना दिए बगैर ये काम करवाया था, लेकिन अक्टूबर 1998 के समय पाकिस्तान के राष्ट्रपति के द्वारा कारगिल प्लान को मंजूरी दी गई थी, भारतीय सेना के द्वारा पाकिस्तानी सैनिकों को कब्जे से हटाने के लिए कारगिल युद्ध लड़ा गया था जिसमें कि भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तानी सैनिकों को वहां से खदेड़ कर मार दिया था और अपनी जगह पर अपना कब्जा कर लिया था, कारगिल युद्ध की लड़ाई में बहुत यादा मात्रा में बम और गोले का उपयोग किया गया था करीब दो लाख से ज्यादा बम और गोले चलाए गए थे, ऐसा माना जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यह ऐसा युद्ध था जिसमें इतनी ज्यादा मात्रा में दुश्मनी सेना के ऊपर बम बारूद और गोले दागे गए थे,

कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों की संख्या – भारत देश में आज यानी 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है यह दिन भारत माता के लिए शहीद हुए जवानों के शौर्य को स्मरण करने के लिए मनाया जाता है, सन 1999 में भारत और पाकिस्तान के सैनिकों के बीच हुए युद्ध को कारगिल विजय दिवस के नाम से जाना जाता है, पाकिस्तानी घुसपैठियों ने जिस पहाड़ी पर कब्जा कर लिया था वह पहाड़ी बहुत ही ऊंची दुर्गम और पथरीली थी, दरअसल सर्दी के मौसम में भारतीय सैनिक और पाकिस्तानी सैनिक उन पहाड़ियों पर अपनी अपनी जगह पोस्ट को छोड़कर नीचे आ जाते थे लेकिन उस टाइम पर पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना बताए अचानक भारतीय सैनिकों के कब्जे वाली पहाड़ी पर अपना कब्जा ले लिया था और इसकी जानकारी भारतीय सैनिकों को चरवाहो के द्वारा मिल गई थी, तो भारतीय सैनिकों को अपनी जगह वापस लेने के लिए युद्ध के रूप में (ऑपरेशन विजय)चलाया था , ऊंची पहाड़ियां और पथरीली जगह होने की वजह से यह युद्ध करीब 2 महीने के लगभग चला था और आखिर में कारगिल युद्ध में भारतीय जाबाजो के द्वारा पाकिस्तानी सैनिकों को वहां से मार गिराया था और अपना कब्जा वापस ले लिया था, उस युद्ध में करीब 527 सैनिक शहीद हुए थे, और 1363 सैनिक घायल हुए थे, मातृभूमि रक्षा के लिए शहीद हुए सैनिकों की याद में ही 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है,

Kargil vijay divas 2023 – कारगिल विजय दिवस के इस अवसर पर शहीद हुए सैनिकों को तीनों सेनाओं थल सेना, नौ सेना, वायू सेना, के प्रमुख ने श्रद्धांजलि दी है भारत के प्रधानमंत्री जी राष्ट्रपति जी रक्षा मंत्री जी द्वारा सैनिकों के बलिदान को स्मरण करने के लिए श्रद्धांजलि दी गई,

NOTE – कारगिल के बारे में आपको दी गई सारी जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध आर्टिकल के द्वारा ली गई है,

Leave a Comment